SC and HC Judgments Online at MyNation

Judgments of Supreme Court of India and High Courts

Ashwani Dixit vs Nishit Dixit And Ors on 3 April, 2018

-1-

र जस न उच न ल ज पर प ठ ज पर
आदश

S.B. Civil Miscellaneous Appeal No.6100/2017

Ashwani Dixit S/o Late Dwarka Prasad Dixit B/c Brahmin,
Aged About 45 Years, R/o Plot Number 945, Barkat Nagar,
Kisan Marg, Tonk Phatak, Jaipur Raj.
—-Appellant

Versus

1. Nishit Dixit S/o Late Dwarka Prasad Dixit B/c Brahmin,
Aged About 39 Years, R/o Plot No. 282, First Floor, Near
Vetenary Hospital, Maharini Farm, Durgapura, Jaipur.
2. Radheyshyam Lamoriya S/o Shri Phoolaram B/c Jaat,
Aged About 37 Years, R/o Village Briglalpura, Post Jodha
Ka Baas Tehsil Chidawa, District Jhunjhunu Rajasthan
Presently Resides C/o Subash Chand Sihag Plot Number A-
516, Malviya Nagar, Jaipur Rajasthan.
3. Subash Sihag V/o Shri Maniram Sihag, Aged About 39
Years, R/o Plot Number A-516, Malviya Nagar, Jaipur
Rajasthan.
—-Respondents

आदश ददन क 03 अपल, 2018

म नन न ध पत श बनव र# ल ल शम $
श ज प शम $ अध वक – अप ल क’ ओर स
श मन*ज भ रद ज अध वक म
श वववक शम $ अध वक – पत सख -1 क’ ओर स
श पहल द शम $ अध वक पत सख -2 व 3 क’ ओर स

अप ल -प -व द# न ह द#व न वववव अप ल आल1च आदश
-2-

ददन क 13.11.2017 क ववरद पश क’ ह4, ज* कक ववद न 6 अ नस
न ल -अपर जजल एव सशन न श, कम-10, ज पर मह नगर न
अस ई तनष ज प न
$ पत सख -85/2017 ( अज?न द#कA बन म
तनशश द#कA एव अन ) मC प रर कर अप ल -प -व द# द र पस
अस ई तनष ज प न
$ पत अन ग$ आदश 39 तन म 1 व 2 सपदठ
र -151 शसववल पकक सदह क* असव क र कर दद ।

पकरण क सकAप थ इस पक र ह4 कक अप ल -प -व द# न
अ नस न ल क समA एक अस ई तनष ज क आवदन
पत गण-अप गण-पत व द#गण क ववरद इस आश क पश कक कक
पलKट न.945 *जन बरक नगर, टMक र*ड, ज पर उसक’ म शम
शकन ल पत द रक पस द द#कA क* आवदट हआ, जजसक पट ववलख
ददन क 21.02.86 क* श म शकन ल द#कA क पA मC ज र# कक ग
और उसक पज न, उप पज क, ज पर क क $ल मC हआ। जजस पर
शम शकन ल द#कA न ग ऊणV एव फसट$ फल*र पर पख मर
करव कर अपन न म स प न व बबजल# क कनकशन समबजन ववभ ग स
प प कक । श म शकन ल दव न अपन ज वनक ल मC उक समपव क
बब एक वस न म ददन क 21.07.2014 क* तनषप दद कक । जजस
उप पज क- ,$ ज पर क ह पज न कर । अस ई तनष ज
प न
$ पत क अनस र उक वस न म क द र उक पलKट सख 945
ककस न म ग$, ज पर क ग ऊणV फल*र म तनम $ण सदह क’ वस
अप ल अज?न कम र द#कA क पA मC क’ ग व फसट$ फल*र म
तनम $ण सदह क’ वस तनकA द#कA क पA मC क’ ग
वस न म मC ह भ शलख ग कक ” मर# मत^ क पश उक अ ल
समपव क ब ब समस सवतव ध क र म शलक न व हस न रण क मर ह#
सम न उक वस गदह गण क* प प ह* ज वC ग अ $ मर पत मर# मत^
क पश वस क’ गई अ ल समपव क* अपन उप *ग व उपभ*ग मC
ल सकCग, इसक* ववक , द न, रहन, वस आदद रप मC आपस सहमत स
हस न रर कर सकCग।”

ह कक स4कणV फल*र पर प न क’ टक’ रखन क अध क र द*नM पतM
क* ह*ग ।

अस ई तनष ज क आवदन क अनस र पत सख -1 न उक
-3-

वस क $ क’ सहमत क बबन उक समपव क* पत सख -2 व 3 क*
पज क^ ववक पत स ववक कर दद , जजस पज क^ ववक पत क*
तनरस कर न व अप ल क अध क रM क ववरद व द पश कर तनवदन
कक कक पत गण क* द1र न द व इस आश क’ अस ई तनष ज स
प बनद फरम ज व कक वह ववक पत ददन क 05.06.2017 क आ र पर
जबरन व दगस समपव क ककस भ ग व अश पर कबज न कर, न कर व
और न ह# ककस पक र स रहन, ब4 ववक व V$ प टa इनbसट कक ट कर
एव अप गण, प क सवतव ध क रM क’ समपव क ककस भ ग व अश
क उप *ग उपभ*ग मC ककस पक र क हस Aप न कर, न कर व। अन
सह ज* दह कर प ह*, ददलव ई ज व।

पत सख -1 न आवदन क अलग स जव ब पश कक
पत सख -2 व 3 न एक स अलग स जव ब पश कक । जजसमC
उनह*न अस ई तनष ज क आवदन मC वरण$ थ M क* गल ब हए
दज$ कक ह4 कक वस न म मC आपस सहमत स ववक करन क’ ज*
इब र शलख ह4, वह अव4 ह4, जजस पढ नह# ज सक । ऐस श $ नह#
लग ज सक । वस न म मC पत सख -1 क* म ^ क न समपव
क समबन मC समपfण$ अध क र, ज* उनमC तनदह , वह दन क’ मश
ज दहर क’ ह4, ज* श म शकन ल दव क’ मत^ ददन क 28.12.2014 क
ब द पभ व ह* ग ह4 और श म शकन ल दव क’ मत^ क रन
पश वस क अनस र अप ल व पत सख -1 अपन अपन दहसस
क’ समपव पर पfण$ म शलक व सव म ह* ग । वस न म द*नM पAM क
सव क^ दस वज ह4 । पत सख -1 न पत सख -2 व 3 क* उस
वस मC शमल# समपव क भ ग क* ह# ववक कक ह4, जजसमC अप ल
क क*ई अध क र नह# ह4 । उनह*न जव ब मC ह भ उजgलरख कक ह4 कक
अप ल क पA मC प म दष कस, सवव क सन लन व अपf न
$
Aत क बबनद पम रण नह# ह4 । अ : अस ई तनष ज क प न
$ पत
असव क र कक ज व।

तपश द*नM पAM क* सनकर ववद न 6 अ नस न ल न
अप ल -प -व द# दर पस अस ई तनष ज क प न
$ पत
असव क र कर दद , जजसस व ध ह*कर अप ल -प -व द# न ह
द#व न वववव अप ल इस न ल क समA पश क’ ह4 ।
-4-

ववद न 6 अध वक अप ल प -व द# श ज प शम $ न तनवदन
कक ह4 कक म ^ क श म शकन ल द#कA , अप ल व पत सख -1
क’ म और उनह*न द*नM भ ई M क* सम न रप स अपन समपव
वस क’ और इस थ क* दख हए कक द*नM भ ई अपन
ज वनक ल मC क*ई कष नह# प , इसशलए उनह*न एक मजजल एक भई
क* व दस
f र# मजजल दस
f र भ ई क* द# वस न म मC ह श $ लग
कक एक भ ई अपन दहसस क’ समपव, ज* उस वस मC शमल# ह4, दस
f र
भ ई क’ सहमत क बबन ववक , द न, रहन नह# करग । जजसक एक मत
उदश ह कक द*नM भ ई शमल जलक रह। उनह*न तनवदन कक ह4 कक
पत सख -1 क’ पत क ल लन अचl नह# , जजसक क रण
शम शकन ल द#कA न उस अपन समस ल अ ल समपव व उसक
अध क रM स महरम कर दद , जजसक समबन मC स व$जतनक सf न
भ पक शश करव ग । पत सख -1 अपन ज वनक ल मC, म ^ क क
स नह# रह अलग मक न मC ककर पर रह उसक
कबज ववव दद समपव मC नह# रह ह4 । म ^ क श म शकन ल द#कA
क’ मत^ क ब द समपfण$ समपव पर अप ल क कबज ह4 और ज*
पत सख -1 द र ववक पत तनषप दद कक ग ह4, वह अप ल क
बबन सहमत क वस न म मC वस क $ क’ मश क ववपर# ह4, ज*
अप ल क अध क र क पत शfन ह4 । इस पक र अप ल क प म
दष कस ह4 । अ नस न ल न पत सख -1 द र पस
ककर न म क’ पत ज* कक दस
f र# समपव क समबन मC ह4, क* ववव दद
समपव क समबन मC उसक कबज म नकर अस ई तनष ज क आवदन
क* गल रप स असव क र कक ह4 । उनह*न तनवदन कक ह4 कक अ नस
न ल न अस ई तनष ज क आवदन क तनस रण क सम मजस षक
क सह# प *ग नह# कक ह4 । पत सख -1 द र पस ककर न म , ज*
कक ववव दद समपव क नह# ह4 और पत सख -1 क* मक न म शलक व
उसमC ककर द र क बबज ह*न मन हए अस ई तनष ज क आवदन
असव क र कक ह4, ज* आदश थ M क ववपर# ह4 और अ नस न ल
न प म दष कस, सवव क सन लन व अपf न
$ Aत क बबनद f
अप ल -प -व द# क पA मC न म नकर आल1च आदश प रर करन मC
तदट क’ ह4 । अ : अप ल सव क र क’ ज कर आल1च आदश क* अप स
कक जव अस ई तनष ज क आवदन सव क र कक ज व।
-5-

ववद न 6 अध वक अप ल न अपन कm क सम न
$ मC तनमन
न त क दष न पश कक हn :-

1.एन र म ह बन म न गर ज एस. ए आई आर 2001 कन $टक 395

2. श म र मकल# बन म श म सशमत एव अन ए आई आर
1983 इल ह ब द 429.

उक कm क ववर* कर हए पत सख -1 क’ ओर स श मन*ज
भ रद ज अध वक न तनवदन कक ह4 कक वस न म सव क^ दस वज ह4,
जजसमC म ^ क श म शकन ल द#कA न पत सख -1 क* ववव दद
समपव क’ प म मजजल क समपfण$ अध क र, ज* उनमC तनदह , व सर
दद हn। उनह*न तनवदन कक ह4 कक उक अध क र मC सहमत स ववक
करन क’ ज* श $ वस न म मC शलख ह4, वह श $ र -138 भ र
उर ध क र अध तन म क ववपर# ह4 । अ : वह नह# म न ज सक । शष
वस नम मन जन *ग ह4 ।

जह क कबज क पश ह4, म ^ क क’ मत^ ह*न क रन पश
वस न म क आ र पर पत सख -1 क ह# कबज म न ज न *ग ह4
और उनक कबज रह ह4 और जब समपfण$ सवतव ध क र पत सख -1
मC तनदह ह* ग , * उनक उप *ग कर हए उसन अपन दहसस क’
समपव क* पत सख -2 व 3 क* ववक कर दद और उनक* कबज
समभल दद । ऐस जस त मC अप ल क कस न * कबज क पA मC
रह ह4 और न ह# सवव क सन लन उनक पA मC रह ह4 । म त इस
आ र पर कक अ नस न ल न ककर न म क* गल पढ शल ह4, क
आ र पर प म दष कस कबज क समबन मC नह# म न ज सक ।
उनह*न अप ल असव क र करन क तनवदन कक ह4 ।

पत सख -2 व 3 क’ ओर स ववद न 6 अध वक श पहल द शम $ न
पत सख -1 क अध वक श मन*ज भ रद ज द र पस कm क
सम न
$ कर हए अस ई तनष ज क आवदन असव क र करन क
तनवदन कक ह4 ।

अध वक पत गण न अपन कm क सम न
$ मC तनमन न त क
-6-

दष न पश कक हn :-
1.श म र जर न सहगल बन म VK. परश*म ल ल एव अन ए आई
आर 1992 दहल# 134
2. पम ज र नस श ह एव अन बन म fतन न ऑफ इजणV एव
अन (1994)5 एस स स 547

3. म4सस$ नश र इज तन ररग वकस$, ज* पर बन म म4सस$ स *ष bVस$,
ज पर 2013(3) Vबg .f एल.स . ( र ज.) 584

4. म4सस$ बसट सलस$ ररटल (इजणV ) प .शल. बन म म4सस$ आददत
बबडल नfव* शल. एव अन 2012(2) Vबg f. एल.स . ( एस स )
शसववल 68

5. अ ममल बन म र ज मतनकम क त क
$ न (म ^ क) जरर ववध क
पत तनध गण एव अन ए आई आर 2010 मद स 34

उभ पA क कm पर वव र कक ग ।

ह सह# ह4 कक ककर न म ददन क 30 जनवर#,2012 क आ र पर
पत सख -1 द र श रववनद शसह क पA मC तनषप दद कक ग ह4,
जजसमC रववनद शसह म शलक दद पA क न म स दश $ ग ह4 ह
ककर नम समपव ब -103, दद मजजल , श म नगर, ज पर स
समबजन ह4 जबकक हस ग पकरण मC ववव द आव स पलKट सख -945
*जन बरक नगर, टMक र*ड, ज पर स समबजन ह4 ।

अ : ह ककर न म ववव दद समपव स समबजन नह# ह4 और
अ नस न ल न इस ककर न म क* ववव दद समपव स समबजन
मन हए अस ई तनष ज क आवदन असव क र कक ह4 । अ : इस
ककर न म क* अलग करक पAक रM क ववव द पर वव र करन ह4 ।

पAक रM क मध शम शकन ल द#कA ज* कक अप ल व
पत सख -1 क’ म , दर तनषप दद वस नम ददन क 21
जल ई,2014 मC शलख इब र ” इसक* ववक , द न, रहन, वस आदद रप
मC आपस सहमत स हस न रर कर सकCग। ” क समबन मC ह4 ।

उक इब र स पहल वस न म मC ज* थ दज$ ह4, उसक अनस र
-7-

” जब क मn ज वव हf, ब क उक अ ल समपव क’ मn एक म त
म लककन हf मर# मत^ क पश उक अ ल समपव क ब ब समस
सवतव ध क र म शलक न व हस न रण क मर ह# सम न उक वस
गदह गण क* प प ह* ज वC ग अ $ 6 मर पत मर# मत^ क पश
वस क’ गई अ ल समपव क* अपन उप *ग व उपभ*ग मC ल सकCग,
इसक* ववक , द न, रहन, वस आदद रप मC आपस सहमत स
हस न रर कर सकCग।”
इस समपfण$ इब र क* दद एक स पढ ज व * म ^ क न अपन
पत क* ह अध क र दद ह4 कक वह वस क’ ग समपव क* अपन
उप *ग व उपभ*ग मC ल सकCग, इसक* ववक , द न, रहन, वस आदद रप
मC आपस सहमत स हस न रर कर सकCग।

जजसस सपष ह4 कक ज* सहमत क समबन मC श $ लग ग ह4,
वह म ^ क न अपन पत क समबन मC लग ह4 और सव क^ रप स
म ^ क क पत क’ मत^ म^ क श म शकन ल द#कA क’ मत^ स पव
f $
ह* क’ ह4 । जजसस ह श $ प म दष अप ल व पत सख -1 क
समबन मC नह# म न ज सक अन भ र -138 भ र उर ध क र
अध तन म 1925 क’ व ख कर हए शम र जर न सहगल बन म
VK. परश*म ल ल एव अन ( उपर*क) क पकरण मC दहल# उच न ल
न अशभतन $रर कक ह4 कक :-

”29.There is support for interpreting the will in this manner
also from the provisions of S. 138 of the Indian Succession
Act, 1925 which provides as under:

“138. Direction that fund be employed in particular manner
following absolute bequests of same to or for benefit of any
other.

Where a fund is bequeathed absolutely to or for the benefit of
any person, but the will contains a direction that it shall be
applied or enjoyed in a particular manner, the legatee shall be
entitled to receive the fund as if the will had contained no
such direction.”

30. The only contention Mr. Lonial raised in respect to this
-8-

provision was that the expression used was “fund” which in
ordinary parlance means a given sum of money. But this
limited view which the learned counsel for the appellant
sought to canvass for interpreting
Section 138 is not tenable
for the reason the heading of the chapter in which this section
occurs indicates that this section as well as succeeding
sections deal with bequests in general, and there are decisions
where the term “fund” has been understood as being inclusive
of moveable as well as immoveable properties.
30A. This interpretation supported from a Division Bench
judgment of the Calcutta High Court reported as ,
Kedar Nath
Poddar v. Gaya Nath Poddar where although the issues
involved and propositions propounded were different; the
provisions of
S. 138 of the Act were held to be applicable to a
case of devolution of properties including moveable
properties other than cash and also immoveable properties.

31. To the same effect is an earlier judgment of the Calcutta
High Court reported as (1897) 2nd 24 Cal 406,
Lala
Ranijewan Lal v. Dal Koer, where the provisions of
Section
125 of the Indian Succession Act, 1965 were under reference,
it was held the term “fund” used therein would apply to
moveable and immovable properties. It is to be noted that
Section 138 of the Act of 1925 is pari materia with Section
125 of 1965 Act.

32. 1 am therefore of my clear view that the objections of the
appellant were rightly dismissed and there is no error in the
view taken by the learned District Judge to the effect that
present was a case of a will, where absolute title was devised
in favor of the son, and the subsequent conditions imposing
restriction on his right to sell etc. were to be ignored as being
repugnant, and this is the only view possible on a total view
of the intention of the testator, as embodied in the will. ”

जजसक अनस र इस पक र क’ श $ क* व4 श $ प म दष नह#
-9-

म न ज सक ।

जह क ववव दद समपव अ $ ज* समपव वस नम स
पत सख -1 क* प प हई ह4, ज* उसन पत सख -2 व 3 क* ववक
क’ ह4, क कबज क पश ह4 ।

ववव दद समपव क सवतव ध क र श म शकन ल द#कA मC
तनदह और वह उसमC तनव स कर । दनस र उनक ज वव रहन
क उसक कबज उनक प स रह उसक' मत^ क पश उसन ग ऊणV
फल*र क' वस अप ल -व द# क पA मC क' ह4 । अ : उसमC उसक
कबज म न ज न *ग ह4 ।
प म मजजल क' वस पत सख -1 क पA मC क' ह4,
जजसक कबज उसक पA मC म न ज न *ग ह4 ।

जह क हकशफ क पश ह4,
हकशफ क समबन मC जब क हकशफ क' डVक' प रर नह# ह*
ज ह4, ब क अस ई तनष ज क' सटज पर इस समबन मC वव र
नह# कक ज सक क Mकक पत सख -2 व 3 क पA मC पज क^
ववक पत तनषप दद कक ज क ह4 ।

अ : ववव दद पलKट क ग ऊणV फल*र , जजसक समबन मC अप ल
क पA मC म ^ क श म शकन ल द#कA न वस क' ह4 व फसट$ फल*र
क' l ज* कक स झ ब ग ह4 । ऐस जस त मC अप ल क प म
दष कस व सवव क सन लन व अपf न
$ Aत क बबनद फसट$ फल*र
क समबन मC अप ल क पA मC बनन नह# प ज ह4 ।

अप ल द र पस न त क दष न एन र म ह बन म न गर ज
एस. ( उपर*क) क पकरण मC अशभतन $रर कक ग ह4 कक :-

'' The Court while making an order to maintain status quo,
should endeavour to clarify the conditions, in the context of
which or subject to which, such direction is issued, as the
words status quo take contextual meaning and may give room
for several different interpretations. An order of status quo is
-10-

a specie of interim orders, when granted indiscriminately and
without qualifications or conditions, leads to ambiguity,
difficulties, and injustice. If Courts want to give interim
relief, they should endeavour to give specific injunctive relief.
If grant of order of 'status quo' is found to be the only
appropriate relief, then Courts should indicate the nature of
status quo, that is whether the status quo is in regard to
possession, title, nature of property or some other aspect.
Merely saying 'status quo' or 'status quo to be maintained'
should be avoided.''

जजसमC क*ई ववव द नह# ह4 परन हस ग पकरण मC ज4स कक ऊपर
वववध कक ग ह4 कक म ^ क श म शकन ल द#कA न अपन द*नM
पतM क* सपष रप स अप ल क* ग ऊणV फल*र व पत सख -1 क*
फसट$ फल*र क अध क र दद हn फसट$ फल*र क' l क अध क र
द*नM पतM क* दद हn।

       अ : अप ल  क ग ऊणV फल*र व फसट$ फल*र क' l                                क क ह#
कस म न ज न *ग ह4 ।

शम र मकल# बन म श म सशमत एव अन (उपर*क) क
पकरण मC इल ह ब द उच न ल क' एकलप ठ न अशभतन $रर कक
ह4 कक:-

''Where by a will the testator conferred right to stay in the
residential premises on the donee putting restriction on right
to transfer the same, merely because in one of the clauses of
the will the donee was referred to as "Malik wa Kabiz", she
would not become absolute owner of the premises, so as to
tranfer it in favour of any person. The question for
determination of intention has to be adjudged from the
reading of the contents of the will containing restrictive
clauses keeping in mind the subsequent clauses.''

जजसमC भ क*ई ववव द नह# ह4 ।

परन ज4स कक ऊपर ववव न कक ग ह4 कक हस ग पकरण मC
-11-

ज* श $ लग ग ह4, वह म ^ क श म शकन ल द#कA न अपन पत
क समबन मC लग ह4 न कक अप ल व पत क समबन मC और
शम शकन ल द#कA क पत क' मत^ , श म शकन ल दव स पfव$
ह# ह* क' ह4, इसशलए वह श $ सव : ह# महतवह#न ह* ज ह4 ।

अ : उक न त क दष न अप ल क* क*ई मदद नह# कर ह4 ।

पमज र नस श ह एव अन बन म fतन न ऑफ इजणV एव अन
( उपर*क) क पकरण मC सवvच न ल न अशभतन $रर कक ह4 कक :-

''Issuance of an order of injunction is absolutely a
discretionary and equitable relief. In a given set of facts,
injunction may be given to protect the possession of the
owner or person in lawful possession. It is not mandatory that
for mere asking such relief should be given. Injunction is a
personal right under
Section 41(j) of the Specific Relief Act,
1963; the plaintiff must have personal interest in the matter.
The interest of right not shown to be in existence, cannot be
protected by injunction.

It is equally settled law that injunction would not be issued
against tile true owner. Therefore, the courts below have
rightly rejected the relief of declaration and injunction in
favour of the petitioners who have no interest in the property.
Even assuming that they had any possession, their possession
is wholly unlawful possession of a trespasser and an
injunction cannot be issued in favour of a trespasser or a
person who gained unlawful possession, as against the owner.

Pretext of dispute of identity of the land should not be an
excuse to claim injunction against true owner.''

इस पक र अ ममल बन म र ज मतनकम कत क
$ न (म ^ क)
(उपर*क) क पकरण मC मद स उच न ल क' एकलप ठ न
अशभतन $रर कक ह4 कक :-

''33. Both the trial Court, as well as the first appellate Court,
have found sufficient reasons to come to the conclusion that
-12-

the second defendant was the adopted son of Rethina
koundar and the first defendant Achammal, who is the
appellant in the present second appeal. It has been found that
Rethina Koundar had written a Will, dated 25.2.1971,
marked as Exhibit A.15, bequeathing his properties to the
first and the second defendants.

34. It has also been found that the first defendant had sold
away a portion of the properties by way of a sale deed, dated
17.7.1976, marked as Exhibit A.4. Further, once an absolute
right had been vested in the second defendant, in respect of
the properties bequeathed to him by way of a Will, dated
25.2.1971, no further condition could have been imposed, as
per
Sections 10 and 11 of the Transfer of Property Act, 1882,
restraining the alienation of the property or by creating a
restriction repugnant to the interest created in such a
property. Further,
Section 138 of the Indian Succession Act,
1925, makes it clear that when a Will contains a direction
that the property bequeathed, absolutely, should be applied or
enjoyed in a particular manner, the legatee shall be entitled to
receive the said property as if the Will had contained no such
direction.''

म4सस$ बसट सलस$ ररटल( इजणV ) प .शल. बन म म4सस$ आददत बबडल
नव
f * शल. एव अन (उपर*क) क पकरण मC सवvच न ल न
अशभतन $रर कक ह4 कक दद व द# क प म दष म मल वव म न ह*
व द# क* पह न व ल# ह तन अपfरण न ह*, * भ अस ई तनष ज
क आवदन असव क र कक ज सक ह4 ।

म4सस$ नश र इजजतन ररग वकस$, ज* पर बन म म4सस$ स *ष bVस$,
ज पर (उपर*क) क पकरण मC भ इस न ल क' समकA प ठ न
जतवक थ क ग*पन स उस ग*पन क' मह इस क रण कम नह# ह*
ह4 कक वह थ पत व द# क* ववदद , व द# क* व दश असव क र कक
ज न ठwक म न ह4 ।

-13-

उक न त क दष न क' र*शन मC हस ग पकरण मC जह
वस न म सव क^ दस वज ह4 और उसमC जजस सहमत क बब श $
अध र*वप क' ग ह4, वह सहमत सपष रप स प म दष म^ क न
अपन पत क समबन मC लग ह4, उसस पत सख -1 क* ब ध नह#
कक ज सक ह4 । स ह# र -138 भ र उर ध क र अध तन म
1925 क प व नM क ह जह समपव क सवतव ध क र वस नम
द र दद ग ह4, वह पर ऐस श x प म दष अव4 ह4 ।

     जह         क कबज क पश ह4,
ज4स कक ऊपर ववव न कक ग ह4 कक म ^ क क' मत^ क बद
वस न म क अनस र ग ऊणV फल*र क कबज अप ल क प म
मजजल क कबज पत सख -1 क म न ज न *ग ह4 । इसक अल व
सव अप ल न न ध क र#, पशलस न - बज ज नगर, ज पर मC ददन क
13.04.2017 क* ररप*ट$ क' ह4, जजसमC उसन सपष रप स दज$ कक ह4 कक

'' ददन क 12.04.2017 क* श म क 7-7.30 बज कर#ब 8-9 अनज न व डक M
न आकर उक समपव पर अन ध क^ रप स पवश कर कबज करन क
प स कक फसट$ फल*र क' मर पर पवश कर शल । ''
स सपष ह4 कक म1क पर फसट$ फल*र पर अप ल क बबज नह# ह4 ।
ऐस पररजस त M मC फसट$ फल*र पर पत सख -1 क ह# कबज
मन जन *ग ह4 और उसन अपन कबज ववक पत स हस न रर कर
दद ह4 ।

दनस र फसट$ फल*र क स र क प म दष कस व सवव क
सन लन अप ल क पA मC म न ज न *ग प नह# ह* ह4 । शष
समपव क समबन मC ह# अप ल क प म दष कस, सवव क
सन लन म न ज न *ग ह4 उसमC दद पत गण क*ई दखलद ज
कर हn * अप ल क* अपf न
$ Aत ह*न क' समभ वन स इनक र नह#
कक ज सक ।

उपर*क ववव न क अनस र ह वववव अप ल आशशक रप स
सव क र क' ज कर अ नस न ल -अपर जजल एव सशन न श,
कम सख -10, ज पर मह नगर द र प रर आल1च आदश ददन क
-14-

13.11.2017 क* अप स कर पत गण क* जरर अस ई तनष ज
प बनद कक ज ह4 कक व -फ4सल मल
f व द वस नम दर
अप ल क* उसक' म ज द र द# ग समपव, जजसमC ग ऊणV फल*र व
l मC ज* दहसस ह4, उसक उप *ग व उपभ*ग मC ककस पक र क' ब न
पह व उनक श न पfण$ तनव स व उप *ग-उपभ*ग मC क*ई व व न
उतपनन नह# कर।
शम शकन ल द#कA द र वस नम क ह ज* फसट$ फल*र
फल*र क' समपव पत सख -1 क* द# ह4, उसक समबन मC अप ल
क अन *ष असव क र कक ज ह4 ।

(न 0 बनव र# ल ल शम $ )

अतनलशम /M-57
$

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2018 SC and HC Judgments Online at MyNation
×

Free Legal Help just WhatsApp Away

MyNation HELP line

We are Not Lawyers but No Lawyer will give you Advice like We do

Please CLICK HERE to read Rules of Group, If You agree then Message us on Above Number.

We handle Women centric biased laws like False 498A, Domestic Violence(DVACT), Divorce, Maintenance, Alimony, Child Custody, HMA24, 125 CrPc, 307, 313, 376, 377, 406, 420, 506, 509 etc

Web Design BangladeshWeb Design BangladeshMymensingh