MyNation KnowledgeBase

Landmark Judgments and Articles on Law

Site Map

If you are looking for some LANDMARK judgment here, if you know party name or case number, you can seach with site search which is on top right side, instead going page by page sitemap.
On each page if you are looking for specific judgment (eg:498A), open each sitemap, then go to browser, Edit option, then Search on this page option for the word you are looking for.


EACH PAGE CONTAIN 100+ JUDGMENTS


Page – 1

Page – 2

Page – 3

Page – 4

Page – 5

Page – 6

Page – 7

Page – 8

Page – 9

Page – 10

Page – 11

Page – 12

Page – 13

Page – 14

Page – 15

Page – 16

Page – 17

Page – 18

Page – 19

Page – 20

Page – 21

Page – 22

Page – 23

Page – 24

Page – 25

Page – 26

Page – 27

Page – 28

Page – 29

Page – 30

Page – 31

Page – 32

Page – 33

9 thoughts on “Site Map

  1. Sir, in my case my wife filed 498a and DV with same allegation in both the case so Sir i am require judgement related to same events similar to 498a as she cannt file 2 cases based on same events.

  2. I married in 2007and am leaving saprat fr my husband fr 2013 and i fill complained in 2014 in CAW and now my FIR is registed .
    I want divorce from him and i try mutually divorce fr family consion at lum- sum amount but he disagree to give any amount.
    As our marriage had passed7yr so we don’t have gold bills &video.
    Plz help me what should i do??

  3. to respected one ,
    pls will u provide me” job abrod exemption” related judgement .

  4. my brothers wife filled a false 498a and also 125 dv act and earlier for 125 dv act judment is out that my brother has to give maintanance of Rs 500 p.m then his wife went to upper court then the judgement is totally aginst my brother.. now maintanance is Rs. 5000 p.m…. as my brother is ready to take back his wife with him but she refuses and want a divorce… and also give back a 5year old child back to us….and also we are ready to take childs custody… but they are demanding divorce and also Rs. 10,00,000 as a final settelment…. but we are not in such a situation to give her a huge amount and also because she filled a false case only because we are migrating from a city to another…. please help and provide us a details what to do?

  5. mother ने अपनी job करते हूए अपनी शादी से पेहिले delhi development authorty से एक one room set purchas किया installment पे 1972 मे . after marriage उनहोने उस flat को 2012 मे sell कर दिया और उस से मिला पैसा अपने चार मै से ( 3 boys & 1 dauther ) 2 boys और 1 dauther को हीस ( divide ) कर दिया equail और एक बडाहे लारके और उस कि wife और 2 dauther के साथ saprate flat purchase कर के रहने लगी यह flat ऊनौने अपने बडाहे लारके के नाम से लिया था 2014 decmber मै . ज़िस के paper mother के पास है .और 2015 october मै उन के लारके कि wife ने ऊंके लारके को fake posco section 12 मै arrest करा दिया without any evidence अपनी ही dauther को porn movie दिखाने के आरोप मै जो कि posco sepicial court मै profe नही हुआ और बडाहे लारके कि bail हो गयी one month मै without any terms condition अभी यह case चल रहा है problem यह है कि बडाहे लारके कि wife का किसी से fisical realtion है ज़िस के profe उस का खुद का conffersiotion latter है two page का self writting जो कि posco court ने aceppt कर लिया है और case को conspersey मान रही है साथ ही counter case भी एन सब के बीच mother ने जो flat बडाहे लारके के नाम से लिया था वो अपने नाम transffar करा लिया अपने बडाहे लारके के bail पर आने पर november 2015 में because बडाहे लारके कि wife posco case वापास लेने कि आयवाज मै flat माग रही थी जो कि actual मै बडाहे लारके कि mother के self made money से purchase किया गया था और ज़िस के all papers बडाहे लारके कि mother के pass है अब mother ने senior citizen act 2007 section 9 मै delhi high court मै rit लगयी है बडाहे लारके कि wife से flat खाली करने के लिये जो कि suprime court के judgement के हिसाब से य़ाधि mother in law कि property उन कि खुद कि self made income से है य़ा mother in law का share है तो उस propertey पर लारके कि wife ( dauther in law ) का कोई right नही है और ना ही वो DV act मै उस पर कोई case कर सकती है . साथ ही senior citizen act 2007 मै section 9 मै clear लिखा है कि father ,mother कभी भी अपने बचों से उन को दी गयी property वापास ले सकते है . esh par कुछ judgement madras high court ,panjab & haryana high court और suprime कौर्ट के है . तो please यह जो prosses हो रहा है वो ठीक है ? य़ा कुछ और improvement करने होगी . lawar तो बोल रहै है कि यह prosses right है please send advise?

  6. mother ने अपनी job करते हूए अपनी शादी से पेहिले delhi development authorty से एक one room set purchas
    किया installment पे 1972 मे . after marriage उनहोने उस
    flat को 2012 मे sell कर दिया और उस से मिला पैसा
    अपने चार मै से ( 3 boys & 1 dauther ) 2 boys और
    1 dauther को हीस ( divide ) कर दिया equail और एक
    बडाहे लारके और उस कि wife और 2 dauther के साथ
    sperate flat purchase कर के रहने लगी यह flat ऊनौने
    अपने बडाहे लारके के नाम से लिया था 2014 decmber मै .
    ज़िस
    के paper mother के पास है .और 2015 october मै उन के
    लारके कि wife ने ऊंके लारके को fake posco section 12 मै arrest करा दिया without any evidence अपनी ही dauther
    को porn movie दिखाने के आरोप मै जो कि posco sepicial
    court मै profe नही हुआ और बडाहे लारके कि bail हो गयी
    one month मै without any terms condition अभी यह
    case
    चल रहा है problem यह है कि बडाहे लारके कि wife का
    किसी से fisical realtion है ज़िस के profe उस का खुद का conffersiotion latter है two page का self writting जो कि
    posco court ने aceppt कर लिया है और case को conspersey मान रही है साथ ही counter case भी एन सब के बीच mother ने जो flat बडाहे लारके के नाम से लिया था वो अपने नाम transffar करा लिया अपने बडाहे लारके के bail पर आने पर november 2015 में because बडाहे लारके कि wife posco case वापास लेने कि आयवाज मै flat माग रही थी जो कि actual मै बडाहे लारके कि mother के self made money से purchase किया गया था और ज़िस के all papers बडाहे लारके कि mother के pass है अब mother ने senior citizen act 2007 section 9 मै delhi high
    court मै rit लगयी है बडाहे लारके कि wife से flat खाली करने
    के लिये जो कि suprime court के judgement के हिसाब से य़ाधि mother in law कि property उन कि खुद कि self made income से है य़ा mother in law का share है तो उस propertey पर लारक
    े कि wife ( dauther in law ) का कोई right नही है और ना
    ही वो DV act मै उस पर कोई case कर सकती है . साथ ही
    senior citizen act 2007 मै section 9 मै clear लिखा है कि
    father ,mother कभी भी
    अपने बचों से उन को दी गयी property वापास ले सकते है .
    esh par कुछ judgement madras high court ,panjab &
    haryana high
    court और suprime कौर्ट के है . तो please यह जो prosses
    हो रहा है वो ठीक है ? य़ा कुछ और improvement करने होगी . lawar तो बोल रहै है कि यह prosses right है please send advise?

  7. please किसी के पास punjab & haryana high court का 26- 12-2016 या 27-12-2016 का justice raj mohan Singh जी का civil matter में आये judgement की copy हो तो massanger या facebook में send कर दे . या case no पता हो तो भी send कर दे detail news papaer की cutting insert हैं pls check . बहुत से श citizen की help होगी . this is free legeal help

  8. thanks I found this judgement in you site . thanks very much. I Daly checks this site . this site so many people help I pary this founder. god bless you. always help people

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2018 MyNation KnowledgeBase
eXTReMe Tracker